पटना : शिक्षा प्रचार समिति के अध्यक्ष धनंजय कुमार सिन्हा ने बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के नियमों में किये गये नये बदलाव को छात्र-छात्राओं के विरुद्ध बताया है। उन्होंने कहा कि नये नियम राज्य सरकार के निर्धारित लक्ष्य-प्राप्ति में बाधक साबित होंगे।

विदित हो कि राज्य सरकार ने विगत 5 जुलाई को बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के सम्बन्ध में नया निर्देश जारी किया है जिसके अनुसार अब से बिहार से बाहर के सिर्फ उन्हीं कॉलेजों के लिये आवेदन किया जा सकेगा जिन्हें या तो नैक से ‘ए’ ग्रेड प्राप्त हो, या फिर कोर्स एनबीए से मान्यता प्राप्त हो, अथवा कॉलेज एनआईआरएफ रैंकिंग में हो।

धनंजय ने कहा कि उपर्युक्त मान्यताओं वाले कॉलेजों की संख्या काफी कम हैं। जो कुछ हैं भी, वहाँ साधारण छात्र-छात्राओं नामांकन होना भी मुश्किल है। उन्होंने कहा कि अगर नये नियम जारी रहे तो गरीब छात्र-छात्राओं एवं उनके अभिभावकों में जो उम्मीदें जगी थी, वे टूट जायेंगी।

उन्होंने कहा कि इसमें नैक से मान्यता प्राप्त सभी ग्रेड के कॉलेजों को शामिल किया जाना चाहिये था। साथ ही, जिन कॉलेजों के कुछ बैच पास हो चुके हैं, उनमें भी छात्र-छात्राओं को पढ़ने की छूट होनी चाहिये थी।

धनंजय ने बताया कि राज्य सरकार के सक्षम पदाधिकारियों एवं मुख्यमंत्री से मिलकर इसमें सुधार की माँग की जायेगी।