लखनऊ,खालिद गौरी: आये दिन आ रही निजी मेडिकल कॉलेजों की मनमानी की शिकायत पर चिकित्सा शिक्षा विभाग ने अब अपना रुख कड़ा कर लिया है। आपको बतादें कि मुजफ्फरनगर के मेडिकल कॉलेज के खिलाफ अधिक फीस लेने के मामले की जांच के लिए कमेटी बनाई गई है तो उन्नाव के एक निजी मेडिकल कॉलेज को अभ्यर्थियों से ज्यादा शुल्क लेने पर नीट यूजी काउंसलिंग से बाहर करने की चेतावनी दी गई है।
अब शुल्क की जानकारी न देने वाले अन्य मेडिकल कॉलेजों को 100 रुपये के स्टांप पेपर पर शासन से निर्धारित शुल्क लेने का शपथ पत्र देने के निर्देश दिए गए हैं। इस संबंध में महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा ने गुरुवार को दिशा-निर्देश जारी किए हैं।
महानिदेशक प्रो. केके गुप्ता ने बताया कि चिकित्सा शिक्षा मेडिकल कॉलेजों की वेबसाइट की जांच में एमबीबीएस के शुल्क में विरोधाभास मिला है। ऐसे सभी कॉलेजों को नोटिस जारी कर चेतावनी दी गई है। उन निजी मेडिकल कॉलेजों को भी चेतावनी दी गई है जिन्होंने शुल्क के बारे में जानकारी ही नहीं दी है। मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज और सरस्वती मेडिकल कॉलेज प्रबंधन से अधिक शुल्क लेने को लेकर जवाब-तलब किया गया है।
दरअसल, मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज के पीजी छात्र ने महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा कार्यालय को बीते 4 जून को पत्र लिखकर ज्यादा फीस वसूलने की शिकायत की थी। उसने आरोप लगाया था कि निर्धारित छह लाख रुपये फीस के अतिरिक्त मांगा जा रहा है। जब शुल्क नहीं जमा किया तो निलंबित करके हॉस्टल से भी निकाल दिया गया।

इस पर महानिदेशक ने संबंधित कॉलेज के प्रधानाचार्य से जवाब मांगा है और डीएम मुजफ्फर नगर, प्रधानाचार्य मेरठ मेडिकल कॉलेज और सहारनपुर मेडिकल कॉलेज की तीन सदस्यीय टीम को पूरे मामले की जांच करके तीन दिन में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं।

सरस्वती मेडिकल कॉलेज उन्नाव के खिलाफ भी एक छात्र ने एमबीबीएस में प्रवेश के लिए 26 लाख रुपये फीस मांगने की शिकायत की है। अब महानिदेशक ने मेडिकल कॉलेज को अपनी वेबसाइट पर निर्धारित शुल्क प्रदर्शित करने के निर्देश दिए हैं। ऐसा न करने पर उसे नीट यूजी काउंसलिंग से बाहर करने की चेतावनी दी है। महानिदेशालय ने प्रदेश के 22 निजी मेडिकल कॉलेजों को पत्र लिखकर शासन के निर्देशानुसार अपनी वेबसाइट पर शुल्क की जानकारी देने के निर्देश दिए हैं।