ऊतर प्रदेश में बीजेपी को ऐसे प्रदेश अध्यक्ष की तलाश है जो 2022 तक राजनीति की पिच पर मजबूती से टिका रहे। महेंद्र नाथ पांडेय के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रहते पार्टी ने लोकसभा की 62 सीटें जीती। लगातार दूसरी बार चन्दौली सीट जीत कर महेंद्र नाथ पांडेय ने 21 साल का रिकार्ड तोडा। यह अलग बात है कि चंदौली में लगातार दूसरी बार महेंद्र नाथ पांडेय चुनाव जीत गए लेकिन वो चित होते होते बचे। प्रदेश में अच्छे प्रदर्शन का कुछ इनाम तो उन्हें मिलना ही था। लिहाजा इसबार महेंद्र नाथ पांडेय को प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री का ओहदा मिला।

सही मायने में उत्तर प्रदेश में बीजेपी को 62 सीट महेंद्र नाथ पांडेय की वजह से नहीं बल्कि नरेन्द्र मोदी के चेहरे और अमित शाह की चतुर रणनीति की बदौलत मिली। अब नए प्रदेश अध्यक्ष के लिए माथा-पच्ची चल रही है। उत्तर प्रदेश में टीम तैयार है, बस उसे अपने ऐसे अध्यक्ष का इंतज़ार है जो 2022 तक लगातार प्रदेश राजनीति की पिच पर बल्लेबाजी कर सके। पहले 12 सीटों के उपचुनाव के अभ्यास मैच जीते फिर करीब तीन साल बाद होने वाले विधानसभा चुनाव के फाइनल में 2017 जैसा या उससे बेहतर परिणाम दे।