कर्नाटक सराकर पर संकट के बादल मंडरा गए हैं। 14 विधायकों की वजह से कर्नाटक में गठबंधन की सरकार खतरे में है। कर्नाटक का नाटक महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली और गोवा तक फैल गया है। जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) और कांग्रेस के विधायक पहले मुंबई के एक होटल में रूके लेकिन उनका ठीकाना अब गोवा में है। इस दौररान सरकार को बचाने के लिए बैठकों का दौर जारी है।

वहीं भाजपा ने कर्नाटक में अपनी सरकार बनाने की कोशिश शुरू कर दी है पर कांग्रेस-जेडीएस भी हार मानने को तैयार नहीं हैं। इस बीच आज हर किसी की नजर विधानसभा अध्यक्ष पर है, जिनके हाथ में विधायकों के इस्तीफे का फैसला है।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जिस तरह से राष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रपति और राज्य स्तर पर राज्यपाल स्वयं आचरण कर रहे हैं, उससे पूरा देश आक्रोशित है। जिस तरह से इस देश में लोकतंत्र खत्म हो रहा है।